post-thumb

माँ बनने का सुख दुनिया की हर महिला अपने जीवन में माँ बनना चाहती हैं ये किसी भी महिला के जीवन का सबसे बड़ा पल होता हैं। गर्भावस्था की खबर से विभिन्न महिलाओं की प्रतिक्रिया अलग अलग होती है। ज़्यादातर महिलाएं इस नए अनुभव का सामना करने के लिए काफी बेचैन होती हैं और उनकी ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं होता। लेकिन इसके बारे में जानकारी होना बहुत ज़रूरी हैं क्योंकि बिना जानकारी के माँ और बच्चा दोनों को नुक्सान झेलना पड़ सकता हैं। गर्भावस्था के शुरुआती दौर में पीरियड का असामान्य होना या ना होना गर्भावस्था की तरफ एक संकेत होता है। ऐसे ही कई लक्षण हैं जो कि आपके गर्भवती होने का इशारा करते हैं। गर्भावस्था के शुरूआती दिनों में गर्भधारण होने के बारें में पता लगाना मुश्किल होता है, लेकिन फिर भी कई लोग इसे अलग-अलग तरीकों से महसूस कर लेते हैं। आज हम आपको इसी के बारे में बताने जा रहे हैं कि जब कोई महिला गर्भवती होती हैं तो उसके शुरुआती लक्षण कौन कौन से होते हैं। जिससे ये अनुमान लगाया जा सकता है की महिला गर्भवती हो गयी है। तो आइये जानते हैं विस्तार से की गर्भवती होने के शुरुआती लक्षण क्या हैं।

थकान होना :
इस समय शरीर में रक्त के बनने में वृद्धि होती है ताकि बच्चे तक सभी पोषक तत्वों को पहुँचाया जा सकें। ऐसे में जल्दी थक जाना और हमेशा नींद जैसा महसूस करना भी प्रेग्नेंसी के लक्षणों में से एक है।
सिर दर्द रहना :
जब किसी महिला के सिर में दर्द की समस्या होने लगे तो समझिये ये गर्भावस्था के शुरुआती लक्षणों में से एक है। क्योंकि जब कोई महिला गर्भवती हो जाती तो उसके रक्त वाहिकाओं में रक्त का प्रवाह तेजी से होने लगता हैं।
मासिक धर्मः जब किसी महिला का हर महीने होने वाला मासिक धर्म बंद हो जाता है तो इस स्थिति में महिला के गर्भवती के लक्षण होने की संभावना मानी जाती है।
बार बार पेशाब का आना :
डॉक्टर के अनुसार जब किसी महिलाओं को बार बार पेशाब करने की समस्या होने लगे तो उस महिला में गर्भवती होने के लक्षण हैं क्योंकि इस अवस्था में कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन नामक हारमोन शरीर में बनता है जो पेल्विक भाग में रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है। जिस कारण महिला को हर थोड़ी देर में पेशाब लगने लगता है।,
मुँह का स्वाद बदलना :
जब किसी महिला को किसी भी भोजन सामग्री में स्वाद नहीं आता हो व मुँह का स्वाद बहुत कड़वा और कसैला सा लगे या फिर सिर्फ खट्टी चीजों का ही मन करें तो यह गर्भवती महिला के लक्षण होते हैं।
स्तनों में सूजन :
पहले तिमाही के लक्षणों में स्तनों का आकार बढ़ना व नाजुक होना भी महिलाओं के गर्भावस्था के प्रमुख लक्षणों में से एक है।
मूड में परिवर्तन आना :
गर्भावस्था के शुरुआती समय में महिलाओं में हॉर्मोन में बदलाव तथा थकान की वजह से उनके मिजाज में काफी बदलाने आने लगता है जिसकी वजह से वह चिड़चिड़ी सी हो जाती है उनका कोई भी काम करने में मन नहीं लगता है। ये महिलाओं के गर्भवती होने के शुरुआती लक्षण हो सकते हैं।
पीठ दर्द :
गर्भावस्था में महिला को पीठ में दर्द होना स्वाभाविक सी बात है क्योंकि इस समय उनका शरीर गर्भ के बच्चे को जगह देने के लिए बढ़ रहा होता है।
उल्टी आना :
गर्भावस्था के दिनों में मितली आना और उल्टी होने जैसा लगना ये समस्या महिलाओं में शुरुआती दौर में सबसे अधिक होती हैं। गर्भावस्था में दिन की शुरुआत काफी बोझिल होती है क्योंकि सुबह के वक्त कमजोरी महसूस होना मितली आना तथा कुछ खाने पर उल्टी होना आदि की समस्या बनी रहती है।
कब्ज होना :
कब्ज और पेट में गैस पाचन-संबंधी कठिनाई प्रेगनेंसी के लक्षण मे से एक है गर्भ धारण करने पर महिलाओ को सीने में जलन या कब्ज़ जैसी समस्याएँ होती हैं।

Share your thoughts Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Comment